Sunday, March 28, 2010

सांसद जया बच्चन बोलीं: मैं तो अपने नाती-नातिन संग खुश



'मैं तो अमिताभ के प्रेम में फंस कर गलती कर बैठी, महिलाओं को शादी कर बच्चे पैदा करने की कोई जरूरत नहीं!!'

(sansadji.com)

सियासी तपिश से इन दिनों बच्चन परिवार भले झुलस रहा हो, कभी राजीव गांधी के दोस्त रहे बिग बी भले मीडिया के निशाने पर हों, अभिषेक भी दिल्ली के अर्थ आवर को लेकर क्यों न सुर्खियों में आ गए हों, लेकिन सपा सांसद जया बच्चन को तो अपनी नाती-नातिन से इतनी खुशी मिलती है कि मन में ना समाय। वह कहती हैं, बिल्कुल गुलाम हो चुकी हूं उन दोनों की। साथ ही वह ये भी कह जाती हैं कि महिलाओं को शादी करने और बच्चे पैदा करने की कोई जरूरत नहीं है। अगर वह अमिताभ बच्चन के प्यार में नहीं पड़ी होतीं तो कभी शादी नहीं करतीं, क्योंकि वह मानती रही हैं कि औरतों के लिए शादी करना जरूरी नहीं। सांसद जया अपने पति अमिताभ पर हो रहे सियासी प्रहारों से विचलित हैं, गुस्से में हैं, ऐसे हालात में सांसद अमर सिंह का अलग-थलग पड़ जाना महसूस कर दुखी हो लेती हैं, लेकिन कहती हैं कि वह अमर सिंह के मसले पर कम से कम फिलहाल समाजवादी पार्टी नेतृत्व से पंगा नहीं लेने वाली हैं। महिला आरक्षण बिल पर पार्टी नेता मुलायम सिंह के रुख का बचाव करते हुए कहती हैं कि मुलायम देश भर में एक बहस शुरू कराना चाहते हैं और उन्होंने जो भी कहा, सही कहा है। वह
बांद्रा-वरली सी लिंक मामले पर कहती हैं कि जिसको भी आमंत्रण मिलता है, उसे वहां जाना चाहिए। अगर कोई इससे असहमत है तो उसे भी अपनी बात रखने का हक है। इसमें मान-अपमान की कोई बात नहीं है। फिर मीडिया के सवालों का सामना करते हुए वह तनिक गुस्से में आ जाती हैं। कहती हैं कि अमिताभ से जुड़े सवाल मुझसे क्यों किए जा रहे हैं? अमिताभ खुद अपना बचाव करने में सक्षम हैं। मैं उनकी पीए नहीं, जो जवाबदेह बनूं। अभी सुर्खियां जया-अमिताभ तक ही काबिज थीं, शनिवार अभिषेक के लिए चर्चाओं का तूफान लेकर आया। अभिषेक डब्ल्यू डब्ल्यू एफ के बर्ल्ड अर्थ आवर अभियान के ब्रांड एंबेसडर हैं। राजधानी दिल्ली में इंडिया गेट पर एक कार्यक्रम के दौरान अभिषेक का विडियो दिखाया जाना था, लेकिन आमिर खान का पिछले साल का पुराना विडियो दिखाया गया। इसके साथ ही कार्यक्रम से ठीक पहले अभिषेक के पोस्टर भी आयोजन स्थल से हटा लिए गए। इस कार्यक्रम में दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और कई कांग्रेसी मंत्री मौजूद थे। बस यही से शुरू हो जाता है ताजा सुर्खियों का दौर। "अर्थ आवर" के दौरान अभिषेक बच्चन का विडियो नहीं चलाए जाने पर अमिताभ ने अपने ब्लॉग पर लिख दिया कि कांग्रेस को अब जूनियर बच्चन से भी एलर्जी हो गई है। मुझे समझ नहीं आ रहा कि अभिषेक का विडियो मैसेज कार्यक्रम के दौरान क्यों नहीं दिखाया गया। इस मामले में मैं भ्रम की स्थिति में हूं। मैं हैरान हूं कि आखिर ऎसा क्यों किया गया। साथ ही अभिषेक ने भी टि्वटर पर लिखा दिया कि "मैंने अर्थ आवर कार्यक्रम के लिए एक संदेश भेजा था, लेकिन किन्हीं कारणों से यह संदेश नहीं दिखाया गया।

2 comments:

Dr. Smt. ajit gupta said...

यह तो सारा चेनलवाले दिखा रहे हैं। नया क्‍या है?

Udan Tashtari said...

राजनित के चालें हैं-देखो कैसी कैसी!