Thursday, April 22, 2010

आईपीएल ने एक और केंद्रीय मंत्री को लपेटा


sansadji.com

आईपीएल क्या हुआ, लालू यादव के शब्दों में 'रोग' हो गया। देश के युवाओं को तो बर्बाद कर ही रहा, क्रेंद्र सरकार की भी चादर उतारने पर आमादा है। पहले विदेश राज्यमंत्री शशि थरूर निशाने पर आए, कुर्सी से गए, अब एक-दूसरे केंद्रीय मंत्री सुर्खियों में नमूदार हैं। नाम है नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल। प्रफुल्ल के नाम पर दिल्ली के एक अंग्रेजी दैनिक ने रोशनी डाली है। दो दिन पहले केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार की परिजन सांसद ने बिना मांगे मीडिया को सफाई दी थी। उसी समय प्रफुल्ल पटेल ने भी कहा था कि आईपीएल में उनका पैसा नहीं लगा है। अब चर्चाएं गर्म हैं कि प्रफुल्ल पटेल की निजी सचिव ने पिछले महीने शशि थरूर को ई−मेल भेजा था। एक न्यूज चैनल की सूचनाओं के मुताबिक 'पटेल की निजी सचिव चंपा भारद्वाज ने नई आईपीएल टीमों की बोली से जुड़े अनुमान शशि थरूर को भेजे थे। यह ई-मेल नीलामी से दो दिन पहले भेजी गई। पटेल की निजी सचिव के पास यह जानकारी प्रफुल्ल पटेल की बेटी पूर्णा पटेल के जरिए आई, जो कि आईपीएल में हॉस्पिटालिटी मैनेजर हैं। उन्हें यह ई-मेल आईपीएल के सीईओ सुंदर रमन ने भेजी। रमन की सफाई है कि उन्हें नहीं पता कि पूर्णा ने यह जानकारी अपने पिता की सचिव को क्यों भेजी, जबकि पूर्णा कहती हैं कि उन्होंने ऐसा सुंदर रमन के कहने पर ही किया। बुधवार को प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि उनकी सेक्रेटरी ने शशि थरूर को कुछ जानकारियां भेजी थीं, वह भी शशि थरूर के मांगने पर। उन्होंने कहा कि शशि थरूर और मैं अच्छे दोस्त हैं और उन्होंने मुझे पूछा कि क्या आप मेरी मदद कर सकते हैं। मैंने ललित मोदी को यह बताया कि शशि को कुछ जानकारियां चाहिए। लेकिन मुझे यह नहीं मालूम कि कौन सी जानकारी उन्हें दी गई। अगर मैं बोली लगाने वाला होता, तो क्यों अपने प्रतिद्वंदी को मदद करता।
हालांकि पूर्णा पटेल ने कहा है कि उन्होंने अपने पिता की सचिव को मेल फॉरवर्ड किया था, लेकिन यह भी कहा कि उन्होंने सीईओ सुंदर रमन के निर्देशों का पालन किया।'

1 comment:

डॉ महेश सिन्हा said...

फोटो अच्छी है :)